Achariya Technologies does't accept any cash payment. We do accept payment in favor of Achariya Technologies Private Limited only through Cheque. If you do any cash transaction for buying any product or using services of Achariya Technologies, then we are not responsible for it.         आचार्य टेक्नोलॉजीज में किसी भी नकद भुगतान को स्वीकार नहीं किया जाता । हम भुगतान केवल cheque के जरिए स्वीकार करते हैं जो की आचार्य टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड(Achariya Technologies Pvt. Ltd.) के पक्ष में हो । यदि आप किसी भी उत्पाद खरीदने या आचार्य टेक्नोलॉजीज की सेवाओं का उपयोग करने के लिए कोई नकद लेनदेन करते हैं, तो हम इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं हैं|

Welcome


21 वी0 शताब्दी में सूचना के क्षेत्र में क्रांति आ गई । उस क्रांति में कंप्यूटरों का बहुत बड़ा हाथ था । कंप्यूटरों के प्रचलन से करोड़ों लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ । भारत में पढ़े-लिखे नौजवानों के लिए रोजगार के नए-नए रास्ते खुले । सूचना प्रौद्‌योगिकी में भारत दुनिया में प्रथम स्थान पर आ गया । सॉफ्टवेयर के निर्माण में भारतीय इंजीनियरों और तकनीशियनों की माँग दुनिया भर में होने लगी । कंप्यूटर बड़े-बड़े कार्यालयों और संस्थाओं तक ही नहीं पहुँचा, गली-गली, गाँव-गाँव और घर-घर में विराजमान होने लगा । गाँव के जमीनों और लगान का हिसाब-किताब कंप्यूटर पर दर्ज होने का सिलसिला आरंभ हुआ ।
मतदाताओं की सूची कंप्यूटर पर तैयार होने लगी । विद्‌यालयों के आँकड़े कंप्यूटर में कैद हो गए । बिजली बिल, राशन कार्ड, टेलिफोन बिल, पानी के बिल सब कंप्यूटरीकृत हो गए । राजस्थान सरकार ने अपने नागरिको के विकास, तरकी व् सुनहरे भविष्य के लिए RKCL की स्थापना की है जिसके द्वारा लाखो युवाओ को निम्न राशी पर बेहतर कंप्यूटर शिक्षा दी जा रही है | RKCL द्वारा शहरो व् गाँव में आम जन की सहायता से कंप्यूटर केंद्र स्थापित किये जाते है जिसके द्वारा कुशल कंप्यूटर शिक्षक की निगरानी में कंप्यूटर शिक्षा दी जाती है | read more +

Updated Guidelines

  • NCR- 2016
    से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य बातें:-

  • कृपया अपने आवेदक संस्था का आवेदन के साथ SP विजिट रिपोर्ट अवश्य संलग्न करें | अपने विजिट के दौरान यह सुनिश्चित कर लें कि संस्थान पर आवश्यक इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध है |

  • जैसा कि हमने अपने पूर्व मेल में आपको बताया था कि अब आवेदन के लिये दो अलग अलग डिमांड ड्राफ्ट एक 50000 रुपये का दूसरा 1000 रुपये का जमा करावें |

  • अगर किसी आवेदन को निरिक्षण या दस्ताबेज में कमी के आधार पर निरस्त कर दिया गया हैं और आवेदक दुबारा से आवेदन करने के इच्छुक है तो आवेदक संस्था निरिक्षण में बताये गये कमी को पूरा कर दुबारा से आवेदन कर सकता है ऐसी स्थिति में आवेदक संस्था को एक हजार का डिमांड ड्राफ्ट जमा कराना होगा एवं सर्विस प्रोवाइडर को इस नये आवेदन पर पुराना Acknowledgement नंबर एवं DD No. तथा नया Acknowledgement नंबर अंकित करना आवश्यक है | ये तभी संभव हो पायेगा जब आप हमें आवेदन के निरस्त होने के 7 दिन के अन्दर बता दे अन्यथा हम रिफंड का प्रोसेस शुरू कर सकते है |